Windows 7 का नयी hard disk पर migration - अंत भला तो सब भला

फिर से हाज़िर हूँ - इस बार अपनी ख़ुशी बांटना चाहता हूँ! जी हाँ, मेरा Windows 7 अब मेरे नए primary partition से, बिना पुराने Windows XP पर किसी dependency के. चल रहा है, . नया पार्टीशन बड़ा है, जिसमे सब चीज़ों के लिए खूब जगह है, फुल फैलकर|

करता भी क्या - पिछली बार की असफलताओं के बाद जिद सी हो गयी थी| बैठकर step-by-step अपने experience को उधेड़ा और बुना - और फिर से शुरू हो गया!

फिर एक बार clonezilla से अपनी पूरी hard disk को नए वाली पर clone किया, यूं का यूं| फिर, physically disconnect किया power और SATA cables को और फिर नयी hard डिस्क से boot किया. Booting पर पता ही नहीं चल रहा था जैसे कुछ हुआ हो, बस अब unallocated space काफी ज्यादा दिख रही थी!

मैंने फिर से Windows Repair Disk से boot किया और bootmgr और boot folder को ओरिजिनल विंडोज XP partition से Windows 7 में copy कर लिया.

एक बार नयी डिस्क के Windows 7 से boot करने के बाद फिर से मैंने Minitool Partition Wizard चलाया और ये काम किये:
> सारे पुराने partition, Ubuntu, Fedora, और swap partition delete किये
> Original Windows XP वाले primary partition को भी delete कर दिया
> Windows 7 के adjacent logical partion को delete किया
> Windows 7 partition को primary partition में convert कर दिया
> Windows 7 partition को resize करके बड़ा कर दिया ताकि वो delete किये गए partitions की space use हो जाये
> Windows 7 partition को, जोकि अब primary partition बन गया था, active partition बना दिया.

इसके बाद भी कुछ मशक्कत करनी पड़ी परन्तु सब ठीक से संपन्न हो गया:
> bcdedit का इस्तेमाल करके booting options से फालतू की entries हटानी पड़ी;
> Original disk का signature बदलना पड़ा क्योंकि cloning के बाद एक ही signature की दो disk हो जाने से booting में समस्या थी. नहीं तो फिर पुरानी disk को offline रखना पड़ता और उसका नए Windows 7 installation से उपयोग नहीं हो पता. पुरानी disk के सभी partitions को MBR बदलकर inactive करना पड़ा;
>इस सब उछल-कूद के बाद Windows 7 को भी reactivate करना पड़ा जिसमें कोई परेशानी नहीं हुई;

मेरी आशा है कि मेरा नया setup और मेरा वापस मिला आत्म-विश्वास दुनिया को बेहतर बनाने में मुझे दूर तक ले जायेंगे - लेकिन पहला काम है Linux ko VirtualBox में चलाना.