थकान में किया गया काम

Translation Note: The Hindi version of this content is being displayed because the English translation is unavailable.

बहुत बार मुझे लगा है कि थकान में किया गया काम गलतियों की वजह से दोबारा करना पड़ता है या फिर उसकी क्वालिटी कम होती है| पिछले दिनों के मेरे अनुभव ने ऐसा ही कुछ मुझे फिर से सिखाया.

कहानी ये है कि मैंने स्वयं एक डेडलाइन बनाई थी कि मैं अपने सारे websites नए और सस्ते सर्वर पर migrate कर लूँगा| इस काम के लिए हमने 17 फरवरी की डेडलाइन बनायीं थी - चूंकि हमारा सर्वर 17 फरवरी को renew होता है, इसलिए 14 फरवरी एक reasonable डेट लग रही थी| लेकिन 14 फरवरी तक काम पूरा नहीं हो पाया था| अब मैंने सोचा कि इससे पहले कि पुरानी होस्टिंग वाला अकाउंट से पैसे काट ले, मैं क्रेडिट कार्ड इनफार्मेशन change कर देता हूँ|

मैंने होस्टिंग अकाउंट में लॉगिन किया और क्रेडिट कार्ड इनफार्मेशन वाले पेज पर पहुँच गया - सामने ही नज़र आया कि change का बटन बना हुआ है - फिर क्या था, मैंने उसे दबाया ताकि मैं इनफार्मेशन change कर सकूं - लेकिन अगली स्क्रीन पर मुझे मेसेज दीखता है कि - Your credit card has been charged - यानी थकान कि वजह से मैंने charge को change पढ़ लिया था और जो मैं करना चाहता था, ठीक उसका उल्टा कर दिया!

यही नहीं, उसी रात जब मैं देर रात तक जाग कर regular expression का इस्तेमाल करके migration की एक shell script लिख रहा था! script का structure ठीक बनाने के बावजूद वह ठीक से काम नहीं कर रही थी! आखिरकार सुबह जब अब्दुल (हमारे system administrator) ने ध्यान से देखा तो उसमे छोटी-छोटी syntax mistakes थीं जोकि आमतौर पर मुझसे नहीं होती| तो इसका ठीकरा भी मैं थकान होने के बावजूद काम करते रहने पर ही फोड़ता हूँ|

आख़िरकार टेस्टिंग इत्यादि पूरा न होने की वजह से migration पूरा हो ही नहीं पाया और मैं अपराध भाव से बच गया - लेकिन समझ में आया की भैय्या उपन्यास कहानी पढना हो तो ठीक - परन्तु टेक्निकल या decision-making का काम थकान होने पर अब नहीं करूँगा! थोडा जल्दी सोऊंगा, अगले दिन जल्दी उठ कर करूँगा - बहुत जरूरी होने पर double-check करते हुए करूंगा!

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
Type in
While typing, you can press Ctrl+g for switching on-off
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options